1. सफलता

    by
    Comment
    सफलता…. सफल हुआ है वहीं परिंदा जिसने इस जग को देखा है अपने अमूल्य आदर्शों की गांठ को जिसने जोड़ा है है जिसकी आत्मा स्वपनों को साकार करें सारे जग में निम्न अंगारों को जिसने हंसकर इस जग में झेला है बना जो जग में लाल किसी का वो पुत्र...