1. ना जाने क्यु

    by
    Comment
    ना जाने क्यु आज जिंदगीसे इतना डरने लगी हू में.. यु ही बस छोटी छोटीसी बातो पे आंहे भरणे लगी हू में.. ना जाने क्यु इस भीड में सुकून की खामोशी धुंड रही हू में.. ना जाने दिल की राहो में कीस गली मे मूड रही हू में.. आसमान मे...