** अतुलनीय भारत **

Posted by
|

** अतुलनीय भारत **
-x—x—x—x-

” हिम आच्छादित श्वेत श्रंखला ,स्वाभिमान दर्शाती है.
निर्झर नदियां जल से पूरित ,सुख समृद्धि दिखाती हैं
आदर्शों की राह चुने हर भारतवासी ,
आस्था के प्रतीक बन गये मथुरा काशी,
पर्वों की भरमार– ईद , होली, दीवाली ,
लंगर छकते कभी, कभी सरगी की थाली
संस्कृति इतनी उच्च , विश्व चोटी में नाम लिखाती है ..
.हिम आच्छादित श्वेत श्रंखला ,स्वाभिमान दर्शाती है..
अन्तरिक्ष ,तकनीक कृषि जगत प्रकृति सम्पदा ,
समृद्धि चारों ओर , भरे खलियान सर्वदा
लघु कुटीर उद्योग बनाते आत्म- विश्वासी ,
मानवता से ओत -प्रोत हर भारतवासी .
गगन विचरती पर्वत चढ़ती ,नारी विश्वास जगाती हैं
हिम आच्छादित श्वेत श्रंखला ,स्वाभिमान दर्शाती है..
वीरों ने इतिहास लिखा -स्वर्णिम अक्षर में ,
देशप्रेम का भाव भरा हर नारी-नर में ,
गीता के उपदेश गूंजते हैं – घर-घर में ,
परमात्मा के दर्शन करते -स्थिर, चर में,
संत जनों की अमृत वाणी कर्म योग सिखलाती है.
हिम आच्छादित श्वेत श्रंखला ,स्वाभिमान दर्शाती है..”
————–x————–x————-x———-

Add a comment