गंगे की कसम हमको …………….

Posted by
|

”तिरंगे की कसम ”
गंगे की कसम हमको ,तिरंगे की कसम हमको |
थके उड़कर भी जो न उस परिंदे की कसम हमको ||
लड़ेंगे आखिरी दम तक , लिए हैं हाथ गंगाजल ;
जिन्होंने देश को लूटा , करेंगे हम भसम उनको ||
—-सुनील ‘नवोदित’ ,मानिकपुर

Add a comment