राजनीती की परिभाषा

Posted by
|

इस राजनीती की अपनी ही परिभाषा है..
यहाँ हर एक नेता की अपनी ही एक भाषा है|

हर कोई यहाँ अपनी ही रोटी सेक रहा है ..
भूके के पेट पर मोबाइल की रोटी फेक रहा है ||

अब १०० रूपये तक का बिल सरकार भरेगी..
और देश की भूखी जनता, गूगल से रोटी डाउनलोड करेगी||

मटर पनीर और शाही पनीर का एम.एम.एस होगा.
और धन्यवाद दो अहलुवालिया को क्यों की ..
२० रुपये कमानेवाला अगले साल से अमीर होगा .||

किसी ने सही कहा है, पैसो से पेट नहीं भरता..
पर पैसे वाला इंसान, कभी भूखा नहीं मरता ||

मंत्री हमारे अल्पहारी कहलाते है ..
आम जनता से हमदर्दी है, इसीलिए
खाना कम और पैसा पेट भर खाते है ..||

दलाली मैं हाथ तो पंतप्रधान के भी काले है
किस से जाके कहे..
आम इंसान को दो वक़्त की रोटी के लाले है ..||

देश मैं हर तरफ अकाल ही अकाल है..
मनमोहनजी हमारे कहते है ..
माँ हमारी मैडम जी .. और हम उनके ही लाल है ||

बंद करो ये एम.एम.एस, दंगो के आसार है ..
पर शिन्देजी जरा ध्यान से ..
ये एम.एम.एस तो, मन मोहन सिंह का ही सार है||

क्या होगा इस देश का,
यहाँ की बेबस जनता.. राजनीती से बेजार है|
हाथ का चांटा गाल पर है तो कमल कीचड़ से सरोबार है
घडी, साइकिल की धीमी रफ़्तार है तो लालटेन होते हुए भी अन्धकार है ||

ए मेरे दिल तू बेकार ही रोता है ..यहाँ मौत मतलब इंसान लम्बा सोता है..
क्यों की ये गिद्धों की बस्ती है मेरे दोस्त .. यहाँ मौत ही उत्सव होता है.

Add a comment