वंदे मातरम् ! मंत्र है , पावन ॠचा है , राष्ट्र का मन-प्राण है !

Posted by
|

वंदे मातरम् !
उत्तप्त ध्वनि उ द् घो ष वंदे मातरम जय मातरम् !
उत्फुल्ल ध्वनि स द् घो ष वंदे मातरम जय मातरम् !
श् वा स वंदे मातरम् ! उच्छ्वास वंदे मातरम् !!

मंत्र है , पावन ॠचा है , राष्ट्र का मन-प्राण है !
विहित वंदे मातरम् में संस्कृति का त्राण है !
निहित वंदे मातरम् में सृष्टि का कल्याण है !
जयति जय जय राष्ट्र ! वंदे मातरम् !! जय मातरम् !!!

है हमारा कर्म यह , हर कर्म का प्रतिफल यही !
स्नेह में सौहार्द है यह , समर में संबल यही !
ओज है यह , तेज है यह , शौर्य शुचिता गर्व है !
बल भुजाओं का यही ,अधरों की स्मित-मुस्कान है !
राष्ट्र-हित सन्नद्ध जन का लक्ष्य है , संधान है !!

सभ्यता-संस्कृति न अंगद-पांव-सी टस मस हुई !
शिवत्व के संस्पर्श से ज्योतित स्वयं कल्मष हुई !
पुण्य शाश्वत् यश चिरंतन पथ सनातन श्रेष्ठतम ;
नित्य अपराजेय अक्षुण्ण आत्मभू अभिमान है !
अनवरत् उत्कर्ष अरुणिम अभ्युदय उत्थान है !!

शूरवीर प्रताप ना बिसराएं वंदे मातरम् !
लक्ष्मी दुर्गा शिवाजी गाएं वंदे मातरम् !
भगतसिंह सुखदेव बिस्मिल राजगुरु आज़ाद की ,
और… हेडगेवार सावरकर सभी की जान है !
मातृ-सुत बंकिम की वंदे मातरम् पहचान है !!

जयति भारतवर्ष ! वंदे मातरम् !! जय मातरम् !!!

Add a comment