हम प्रोग्रेस कर रहे है..

Posted by
|

“हम प्रोग्रेस कर रहे है”
कोर्ट के वकील बाबू से,
पसीना पोछते उस इंसान तक ।
दफ्तरी महिलाओं से लेकर,
वयोवृद्ध किसान तक ।
सभी को कहते सुना है
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

गंगा की निर्मल धरा से,
बाजार के मिनरल वाटर तक ।
स्वर्ण रजत की थालो से,
थर्मोकोल की प्लेटो तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

रिश्तो की गर्माहट से,
फेसबुक की चाहत तक ।
शास्त्रों के प्रज्ञान से,
गूगल के विज्ञान तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

सर्वेभवन्तु सुखिनः से ,
नक्सल आतंकवाद तक ।
अखंड भारतवर्ष से टूटते,
‘खंडित’ कश्मीर ‘आज़ाद’ तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

माता-पिता के चरणों से,
‘मॉम-डैड’ के कंधो तक ।
नारी शक्ति की पूजा से,
वेश्यावृत्ति के धंधो तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

विक्रम के न्याय से,
‘राखी के इन्साफ’ तक ।
गौ सेवा – ईश्वर सेवा से,
गौ चर्म के व्यापार तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

‘नालंदा-तक्षशिला’ को छोड़,
ऑक्सफोर्ड की चौखट तक ।
‘विश्वगुरु’ भारत से पीछे,
‘प्रगतिशील’ इस भारत तक ।
हम प्रोग्रेस कर रहे है ।।

पर इस प्रोग्रेस की दौड़ में,
हम भूल रहे संस्कार को ।
भूल रहे संस्कृति व भारतीय आकर को ।।
बचा सको तो बचा लो,
इस देश को इस बाजार से ।
वरना बिक जायेगी ये सभ्यता
‘उनकी’ एक ललकार से ।।

और जब बचा लो तभी कहना …
“हम प्रोग्रेस कर रहे है”

Add a comment