हुईं यहाँ मर्दानियाँ

Posted by
|

हुईं यहाँ मर्दानियाँ

भारत कि इस धरती ने
वीरता की रची कहानियाँ
मर्दानों की बात तो क्या
हुई यहाँ मर्दानियाँ

कभी बनी चाँद बीबी वो
कहलाई कभी रजिया सुल्तान
नूरजहाँ का नूर कभी तो
कभी रानीझाँसी हुई महान
चलती रहीं गाथाएं आगे
चलती रहीं कहानियाँ
मर्दानों की ………………
वीरता की इस गाथा में
जुड़ा एक नाम बलिदानी
आँधियों भरे दिन हों चाहे
चाहे रातें हो तूफानी
भारत की इस बेटी ने
छोड़ी कितनी निशानियाँ
मर्दानों की बात……………..
अटल हिमालय सा निर्णय ले
बंग देश आजाद किया
डटी रहीं और डिगी नहीं
रची कहानी साहस की
लहू के कतरे कतरे से
लिखीं अमिट कहानियाँ
मर्दानों की बात ………….
संकट में होगा जब भारत
वे फिर तलवार उठाएंगी
रानीझाँसी सा जज्बा ले कर
दुश्मन को मार भागएंगी
व्यर्थ नहीं जाने देगीं वे
उनकी वो कुर्बानियाँ
मर्दानों की बात ………………..
भारत तो हमारी आन है
भारत हमारी शा न है
इसकी एक मुस्कान पर तो
कुर्बान हमारी जान है
यही कहेंगी नहीं डरेंगी
भारत की दीवानियाँ
मर्दानों की बात तो क्या
कुई यहाँ मर्दानियाँ हुईं यहाँ मर्दानियाँ

भारत कि इस धरती ने
वीरता की रची कहानियाँ
मर्दानों की बात तो क्या
हुई यहाँ मर्दानियाँ

कभी बनी चाँद बीबी वो
कहलाई कभी रजिया सुल्तान
नूरजहाँ का नूर कभी तो
कभी रानीझाँसी हुई महान
चलती रहीं गाथाएं आगे
चलती रहीं कहानियाँ
मर्दानों की ………………
वीरता की इस गाथा में
जुड़ा एक नाम बलिदानी
आँधियों भरे दिन हों चाहे
चाहे रातें हो तूफानी
भारत की इस बेटी ने
छोड़ी कितनी निशानियाँ
मर्दानों की बात……………..
अटल हिमालय सा निर्णय ले
बंग देश आजाद किया
डटी रहीं और डिगी नहीं
रची कहानी साहस की
लहू के कतरे कतरे से
लिखीं अमिट कहानियाँ
मर्दानों की बात ………….
संकट में होगा जब भारत
वे फिर तलवार उठाएंगी
रानीझाँसी सा जज्बा ले कर
दुश्मन को मार भागएंगी
व्यर्थ नहीं जाने देगीं वे
उनकी वो कुर्बानियाँ
मर्दानों की बात ………………..
भारत तो हमारी आन है
भारत हमारी शा न है
इसकी एक मुस्कान पर तो
कुर्बान हमारी जान है
यही कहेंगी नहीं डरेंगी
भारत की दीवानियाँ
मर्दानों की बात तो क्या
कुई यहाँ मर्दानियाँ

Add a comment