धरती

Posted by
|

बरसात का मौसम प्यासी धरती
ज़रा सी देखभाल को तरसती धरती
आसमान से गिरती बिजलियाँ
इंसानो के साथ ही कांपती धरती
सबका सारा बोझ इतना ढोके भी
रुकती नही बस हाँफती धरती
इसके प्रकोप को भी आशीष मानो
माँ की तरह हमें पालती धरती

Add a comment