हिंद की इमारत

Posted by
|

यह इमारत खड़ी हिन्द की
उनके गर्म लहू पर
सौप गए जो जीवन निज का
इस पावन वेदी पर
या जिसने इसको है सीचा
अपने श्रम से बल से
चमक रही है इसकी आभा
उनकी मेहनत के फल से

सौभाग्य हिन्द की इस छाया में
हमने जीवन पाया
मिला बहुत कुछ
और बहुत कुछ करने का मौका आया
पहले अभी स्वयं से
हमको और है आगे बढ़ना
जीत चुके है कुछ सीमा तक
पूर्ण विजित है बनना

अभी हिन्द में पलते है दो
भिन्न भिन्न से चेहरे
एक बढ़ रहा तीव्र विकास से
दूजा लिए घाव है गहरे
प्रश्न बड़ा है अभी समय का
नहीं हमें है रुकना
सोचो लेकिन कैसे सबको
लेकर साथ है चलना

नहीं हमारे पंख है छोटे
और न सपना छोटा
छोटे छोटे इन पैरो को
होगा आगे बढ़ना
मुस्काने अपनी ही होंगी
अपना होगा जीवन
लहरायेगी हिन्द पताका
हर्षित होगा हर एक मन

कृते अंकेश

Add a comment